Cure PCOS/PCOD Naturally

How To Cure Polycystic Ovarian Syndrome Naturally?

PCOD/ PCOS आजकल एक आम बीमारी के रूप में हर दूसरी महिला में देखने को मिलता है जिसका ज़िक्र अगर हम हमारी नानी दादी से करे तो वो कहेंगे की ये कोनसी बीमारी है। इसका अर्थ साफ़ हुआ की हमारी लाइफ़ स्टाइल से ये बीमारी आइ है। जो कि दिन प्रतिदिन ख़राब होती जा रही है। Kayakalya Nature Cure Udaipur में Natural treatment for Polycystic Ovarian Syndrome बिना किसी अंग्रेजी दवाई के किया जाता है।

 

Polycystic Ovarian Syndrome; Causes and Symptoms

PCOD-PCOS

PCOD / PCOS Female हार्मोंन (सेक्स हार्मोन) के असन्तुलन की वजह से होता है। हार्मोन के वजह से ही महिलाओं में Periods चलते है, प्रेगनेंसी होती है, ओवरीज़ काम करती है। कई बॉडी के फंक्शनल हार्मोन से इफ़ेक्ट होते है इसलिए लक्षण आते है जैसे – पिरीयड अनियमित होना, ओवरीज़ में सिस्ट होना, प्रेगनेंसी में दिक़्क़त आना आदि कई समस्याएँ सामने आती है। तो बिना देर किये आज ही करवाएं Naturopathy treatment in Udaipur.

 

Types Of Hormones In Females

 

Estrogen and Progesterone

Female Hormones

यें दोनो फ़ीमेल हार्मोन होते है, जिनकी ज़रूरत होती है ओवरीज़ को Eggs बनाने ओर छोड़ने के लिए। हर महीने ओवरीज़, माहवारी (Mestrual Cycle/Periods) के चक्र में एक या एक से ज़्यादा Mature Eggs छोड़ती है। इन हार्मोन की कमी के कारण ओवरीज़ Egg Mature तो कर तो पाती है मगर छोड़ नही पाती है, जिससे Eggs ओवरीज़ से बाहर ना आने की वजह से वहाँ इकठ्ठा होने लगते है ओर ओवरीज़ की साइज़ बड़ी होने लगती है, सूजन (Swelling) आने लगती है, कभी कभी कोई Egg आकार में बहुत बड़ा हो जाता है ओर सिस्ट (cyst) का रूप ले लेता है जिसे हम Polycystic Ovaries कहते है। इस समस्या का प्राकृतिक समाधान ayurvedic treatment in Udaipur के पास निश्चित रूप से है।

यह समस्या Estrogen ओर Progesterone हार्मोन कि वजह से आती है । इन हार्मोन के असंतुलन से ओर परिवर्तन की वजह से माहवारी चक्र में अनियमितता आती है। कई बार माहवारी आना बन्द हो जाती है, कभी समय से पहले कभी समय से बहुत बाद आती है, कभी Bleeding बहुत ज़्यादा कभी बहुत कम, पेट में Cramps आना, दर्द होना, कमर दर्द, परों में दर्द, पिम्पल होना जैसी कई समस्याएं आती है।

हार्मोन कुछ ठीक हो तो Periods आना कुछ गड़बड़ हो तो नही आना ये हर महीने लगा रहता है। दूसरा एक हार्मोन एंड्रोजन (Endrogen) जिसे टेस्टेस्टोरेन (Testosterone) हार्मोन कहते है जो की पुरुषों का हार्मोन है किंतु महिलाओं में यह कुछ मात्रा में उपस्थित होता है।

PCOD/ PCOS में ये हार्मोन भी असंतुलित हो जाता है ओर जब यह हार्मोन महिलाओं में ज़्यादा मात्रा में होता है तो महिलाओं में पुरुषों के लक्षण दिखाई देने लगते है जैसे – शरीर पर बालों का आना, पेट व छाती पर बाल आना, निप्पल के चारों तरफ़ बाल आना, चहरे पर दाढ़ी मूँछ आना, सर के बाल पतले होना, बालों का झड़ना, टकला होना, त्वचा मोटी होना, त्वचा काली होना, स्क्रैच होना, झूरिया पड़ना, आवाज़ मोटी होना, छाती का साइज़ कम होना, क्लिटोरिस (Clitoris) का बड़ा होना आदि। इस समस्या का सबसे बड़ा Issue हार्मोन अनियमितता (Hormonal Imbalance) होना है। Kayakalya Nature Cure helps in Natural treatment for Polycystic Ovarian Syndrome without the use of any high dose medicines.

 

Who Are More Affected?

  • अगर आपको शुगर है
  • ब्लडप्रेशर की परेशानी है
  • कलेस्टरॉल गड़बड़ है
  • थायरोईड है
  • मोटापा है 

ऐसी महिलायें जिन्हें ऊपर लिखी समस्याएं है या जिनकी आरामदायक ज़िंदगी नही है, खानपान ठीक नही है तो उन्हें pcod/pcos की समस्या होती है।आप इस समस्या को समय रहते best naturopathy center in Udaipur के पास ठीक करके हार्मोन को संतुलित कर सकते है वह भी नैचूरल तरीक़े से ।

 

Solutions of Natural Treatment for Polycystic Ovarian Syndrome

Natural Treatment of PCOS and PCOD

  • नींद अच्छी लेनी चाहिए
  • पानी अच्छी मात्रा में पीना चाहिए
  • व्यायाम करना चाहिए
  • कपालभाती करना चाहिए
  • पेट साफ़ रखना चाहिए
  • वजन को संतुलित रखना चाहिए
  • मोटा अनाज खाना चाहिए
  • फल ओर कच्ची सब्ज़ियाँ खानी चाहिए
  • प्रोटीन खाना चाहिए
  • बीज खाने चाहिए जैसे अलसी, कद्दू, तिल, तरबूज़, सूरजमुखी आदि
  • नट्स खाने चाहिए


Conclusion:

हर रोज़ हम कईं तरह की बिमारियों के बारे में सुनते है व देखते हैं व इससे बचाव के उपाए ढूंढते हैं। लेकिन कुछ बिमारियों के चपेट में हम भी आ जाते है अथवा इससे छुटकारा पाने के कई इलाज भी ढूँढ़ते है व करवाते है। अगर आप भी Polycystic Ovarian Syndrome जैसी बीमारी की गिरफ्त में है तो निश्चिन्त हो कर आज ही करवाएं Panchakarma Treatment in Udaipur, Kayakalya Nature Cure के पास।

Leave a Reply